Political Satire लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
Political Satire लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

रविवार, 16 अगस्त 2020

Humour : बाइडेन से पीछे चल रहे ट्रम्प ने अब राहुल गांधी से मांगी मदद, क्यों और कैसे? पढ़िए यहां

Trump Rahul Gandhi humor ट्रम्प राहुल गांधी जोक्स

By Jayjeet

वॉशिंगटन। अमेरिकी राष्ट्रपति चुनावों में अब पांच माह से भी कम का वक्त बचा है। हाल ही में हुए कई सर्वे में प्रेसिडेंट डोनाल्ड ट्रम्प अपने प्रतिद्वंद्वी जो बाइडेन से पीछे चल रहे हैं। ऐसे में ट्रम्प ने अब राहुल गांधी से मदद लेने की योजना बनाई है। इस बीच, ट्रम्प की इस योजना की भनक लगते ही बाइडेन के खेमे में अफरातफरी का माहौल है।

क्या है ट्रम्प का ट्रम्प कार्ड? 
ट्रम्प की कोर टीम द्वारा बनाए गए प्लान के अनुसार राहुल गांधी अगले तीन माह तक अमेरिका में रहकर बाइडेन के पक्ष में जोरदार चुनावी रैलियां करेंगे। इसके अलावा वे ट्विटर पर एक्टिव रहकर रोजाना ट्रम्प से एक सवाल भी पूछेंगे। ट्रम्प के योजनाकारों के अनुसार इससे एक माह के भीतर ही ट्रम्प के खिलाफ बना माहौल पक्ष में हो जाएगा और चुनाव आते-आते वे क्लीन स्वीप करने की स्थिति में आ जाएंगे।

विरोधी खेमे में अफरातफरी, सदमे में बाइडेन
ट्रम्प की इस योजना की भनक लगते ही बाइडेन के खेमे में सन्नाटा खींच गया है। वहां से आ रही खबरों के अनुसार अगर ट्रम्प अपनी इस योजना में सफल हो गए तो बाइडेन के लिए चुनाव जीतना तो दूर, अपनी जमानत तक बचाना मुश्किल हो जाएगा। अपुष्ट सूत्रों के अनुसार इससे बाइडेन गहरे सदमे में पहुंच गए हैं।

राहुल ने पूछा, कौन हैं बाइडेन?
इस बीच बाइडेन के लिए एक राहत की खबर भी है। राहुल गांधी के करीबी सूत्रों के अनुसार ट्रम्प के इस प्रस्ताव के जवाब में राहुल ने पूछ लिया कि ये बाइडेन कौन हैं? राहुल के करीबी निजी सचिव कहा, 'राहुल भैया तब तक किसी के पक्ष-विपक्ष में नहीं बोलते, जब तक कि वे खुद उनके बारे में गूगल से पुख्ता जानकारी नहीं ले लेते।' ऐसे में बाइडेन खेमे को उम्मीद है कि पुख्ता जानकारी लेते-लेते अमेरिकी चुनाव ऐसे ही गुजर जाएंगे।

#rahul_jokes #trump_jokes

यह भी पढ़ें :  देवउठनी एकादशी के बाद खत्म हो जाएगी कोरोना की सारी अकड़, एक अदद कोरोनी की तलाश



गुरुवार, 30 जुलाई 2020

Humor : जब राफेल से मिलने पहुंच गए राहुल, जानिए फिर क्या हुई बातचीत

राफेल राहुल जोक्स, rahul rafel jokes

By Jayjeet
अंबाला। लंबे सफर के बाद एक लंबी नींद। नींद के बाद जैसे ही राफेल ने आंखें खोलीं, उसे सामने एक शख्स नजर आया। चेहरे पर मास्क था। इसलिए पहचानने में थोड़ी दिक्कत हुई। लेकिन राफेल कुछ बोले, उससे पहले ही उसे आवाज सुनाई दी- राफेल भैया, नमस्कार।
अब राफेल को पहचानने में देर ना लगी- अच्छा राहुल भैया आए हैं। और सुनाओ, कैसे आना हुआ।
राहुल : बस भैया, आपका नाम बहुत सुना था, तो सोचा खुद ही मिल आऊं..
राफेल : नाम तो मैंने भी आपका बहुत सुन रखा है।
राहुल : अच्छा! क्या सुन रखा है मेरे बारे में?
राफेल : एक तो यह कि आप सवाल बहुत पूछते हों और सवाल पूछने के चक्कर में आपने एक बार यह सवाल भी पूछ डाला था कि राफेल नडाल पर सरकार इतना खर्च करने क्यों जा रही है?
राहुल : हां, याद आया। वो शुरू में हमारे सलाहकारों ने कुछ कन्फ्यूज कर दिया था। हमें लगा था कि सरकार देश में करोड़ों खर्च कर टेनिस प्लेयर राफेल नडाल को ला रही है। इस सरकार का कुछ भरोसा नहीं...
राफेल : भई, सरकार की तो हम ना जानें, हमें तो फ्रांस सरकार ने कहा कि इंडिया जाना है तो चले आए। पर आप मुझसे मिलने यहां क्यों चले आए?
राहुल : राफेल भैया, सबसे पहले तो हम आपको पोलाइटली क्लियर कर दें कि सवाल पूछने का काम हमारा है। पर आप हमारे मेहमान हैं तो आपके सवाल का जवाब दे देते हैं। हम तो बस ये पूछने आए थे कि आप हमसे नाराज तो नहीं हों?
राफेल : आपसे नाराज क्यों होने लगा भला?
राहुल : मैंने आपका नाम ले-लेकर काफी कुछ बोला हैं ना, इसलिए पूछ रहा हूं।
राफेल : अरे बाबा, मुझे क्या भाजपा के प्रवक्ता या मोदी के मंत्री समझ रखा है जो मैं आपकी हर बात को इतना सीरियसी लूंगा?
राहुल : मतलब भैया, आप नाराज नहीं हैं ना? बस यही सुनने आया था। आज मैं चेन से सो सकूंगा। कल तो मैं रातभर छत पर खड़े होकर बस आसमां की ओर ही देखता रहा कि कहीं गुस्से में ऊपर से फट ना पड़ो... अच्छा चलता हूं। अब ना मिलेंगे...!
#satire #rafale #humor

(और भी मजेदार खबरी व्यंग्य पढ़ने के लिए हिंदी खबरी व्यंग्यों पर भारत के पहले पोर्टल hindisatire.com पर क्लिक करें ...)


रविवार, 26 जुलाई 2020

Humor : जब शिवराज सिंह ने कोरोना से कहा - हम नेता तो बच जाएंगे, मुझे आपकी चिंता है

shivraj singh corona शिवराज सिंह चौहान जोक्स

भोपाल। मप्र के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी कोरोनावायरस की चपेट में आ गए हैं। पर जैसा कि सभी जानते हैं कि शिवराज जी एक जमीनी नेता हैं और वे किसी से भी कनेक्ट होने का कोई मौका नहीं छोड़ते। तो इलाज के लिए चिरायु हॉस्पिटल के वीआईपी बेड पर बैठे-बैठे उन्होंने कोरोना से ही बात करनी शुरू कर दी।

शिवराज : हमारी संस्कृति मेहमानों का स्वागत करने की रही है। पहले हमने सिंधियाजी के स्वागत में पलक-पावड़े बिछाए, अब आपका स्वागत करने मैं खुद आया हूं।

कोरोना : आप तो हमें शर्मिंदा कर रहे हैं। आप हम जैसे छोटे वायरसों से बात कर रहे हैं, हमारे लिए तो यही बड़ी बात है।

शिवराज : देखिए, हमारे राज में कोई छोटा, कोई बड़ा नहीं है। आप तो कमलनाथ जी के जमाने से मप्र में हो। देख ही रहे हो कि कैसे हमने छोटे से सिंधिया गुट के लोगों को भी हमारे बराबर जगह दी। जितने हमारे मंत्री, उतने ही सिंधियाजी के मंत्री।

कोरोना : जैसा आपके बारे में सुना, बिल्कुल वैसे ही निकले आप। इसीलिए आपसे मिलने चला गया। लेकिन माफी चाहूंगा, इस चक्कर में आपको संकट में डाल दिया।

शिवराज : संकट की चिंता मत कीजिए। जैसा कि मोदीजी ने कहा, हम तो आपदा को अवसर में बदलने वाले लोग हैं। देखा नहीं, हम कैसे कांग्रेस में फंसे आपदाग्रस्त विधायकों को हमारी पार्टी में लाकर उनके लिए अवसर पैदा कर रहे हैं।

कोरोना : मुझे सोशल मीडिया पर पता चला कि लोग आपकी इस बात की निंदा कर रहे हैं कि आप सरकारी हमीदिया हॉस्पिटल में भर्ती होने के बजाय प्राइवेट हॉस्पिटल चिरायु में भर्ती हो गए।

शिवराज : लोगों का काम है कहना। अगर हम हमीदिया में भर्ती होते तो लोग कहते कि देखो गरीबों के लिए बने हॉस्पिटल में भर्ती होकर एक मुख्यमंत्री ने गरीबों का हक मार दिया। हम हमीदिया में जाते तो वहां का स्टॉफ हमारी तिमारदारी में लग जाता, जिससे वहां भर्ती होने वाले गरीब-गुर्गों का प्रॉपर ट्रीटमेंट नहीं हो पाता। उनकी खातिर ही हमने प्राइवेट हॉस्पिटल को चुना।

कोरोना : आप हम जैसे वायरसों के लिए क्या कुछ संदेश देना चाहेंगे?

शिवराज : देखिए, मैं इस प्रदेश का मुख्यमंत्री हूं और इसलिए मुझे सबकी चिंता होनी चाहिए। आप जिस तरह से नेताओं में घुसपैठ कर रहे हैं, उससे मुझे आप लोगों की चिंता हो रही है। हम नेताओं की जितनी चमड़ी मोटी होती है, उतनी ही मोटी इम्युनिटी भी। हम तो आप लोगों को झेल जाएंगे। पर आप हमें झेल पाओगे, इसको लेकर मुझे डाउट है।

कोरोना : जी बिल्कुल, हमसे ये गलती तो हो रही है। अब मैं आपको राज की एक बात बताता हूं। जब हम चीन से चले थे तो हमें एक गाइडलाइन दी गई थी। इसमें हमसे कहा गया था कि हम भारत में नेताओं से दूर ही रहे। पर गाइडलाइन तो होती ही है ना तोड़ने के लिए। तो हमने भी तोड़ दी...

शिवराज : बिल्कुल, वैसे ही जैसे हमारे यहां के लोग भी तुमसे बचने के लिए बनाई गई गाइडलाइन की धज्जियां उड़ा रहे हैं। अच्छा, जरा मैं आराम कर लूं, फिर फुर्सत में बात करेंगे...

#shivraj_singh  #humor #satire #corona

(और भी मजेदार खबरी व्यंग्य पढ़ने के लिए हिंदी खबरी व्यंग्यों पर भारत के पहले पोर्टल hindisatire.com पर क्लिक करें ...)




मंगलवार, 14 जुलाई 2020

Humor : राहुल गांधी ने बीजेपी अध्यक्ष नड्‌डा को चिट्‌ठी लिखकर उनसे क्या मांगा?

rahul gandhi jokes satire on congress

By Jayjeet

हिंदी सटायर डेस्क। राजस्थान में बढ़ते राजनीतिक संकट के बीच राहुल गांधी ने जेपी नड्‌डा को एक चिट्‌ठी लिखकर पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों के खिलाफ कांग्रेस की ओर से कुछ विरोध प्रदर्शन आयोजित करने का आग्रह किया है। राहुल ने लिखा - आप लोग तो पुराने अनुभवी हैं, बल्कि यह आपका लोकतांत्रिक दायित्व भी है... (पढ़ें पूरी चिट्‌ठी नीचे...)

प्रति
श्री जेपी नड्‌डा जी
अध्यक्ष, बीजेपी और वरिष्ठ कार्यकर्ता, पूर्व विपक्षी पार्टी

विषय : पेट्रोल-डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी के खिलाफ कांग्रेस की ओर से प्रदर्शन करने बाबत।

महोदय,
सेवा में नम्र निवेदन है कि इस समय देश में दो घटनाएं बड़ी तेजी से घटित हुई हैं। एक, पेट्रोल-डीजल के दामों में अभूतपूर्व बढ़ोतरी हो रही है। वहीं दूसरी ओर राजस्थान में हमारी सरकार के खिलाफ बगावत हो गई है। हमारी प्राथमिकता सरकार बचाना है, लेकिन पेट्रोल-डीजल जैसे महत्वपूर्ण मुद्दे की भी अनदेखी नहीं कर सकते। ऐसे में महोदय से निवेदन है कि पेट्रोल-डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी के खिलाफ हमारे लिए कुछ प्रदर्शन आउटसोर्स करने का कष्ट करें।आप जो भी प्रदर्शन या विरोध करेंगे, उसे हमारा भरपूर नैतिक समर्थन रहेगा। अगर वक्त मिला, राजस्थान के हालात में कुछ सुधार नजर आया और साथ ही कुछ बैलगाड़ियों की व्यवस्था हो गई तो हम कांग्रेसी भी एक दो विरोध मार्च निकालने का प्रयास जरूर करेंगे।

उम्मीद है देश के लोकतंत्र को बचाने की खातिर आप अपने इस प्रमुख लोकतांत्रिक दायित्व से मुंह नहीं मोड़ेंगे।

आपका ही प्रिय
राहुल


क्या रहा बीजेपी का रिएक्शन?
नड्डा ने पत्र की यह बात अमित शाह को बताई है। सूत्रों के अनुसार शाह ने कहा है कि बीजेपी हमेशा लोकतांत्रिक मूल्यों की पक्षधर पार्टी रही है। लोकतंत्र की खातिर हमें संकट की इस घड़ी में कांग्रेस की मदद करनी चाहिए।

#rahul_gandhi #rajasthan_political_crisis #petrol_diesel_price #Nadda  #humor #satire

(और भी मजेदार खबरी व्यंग्य पढ़ने के लिए हिंदी खबरी व्यंग्यों पर भारत के पहले पोर्टल hindisatire.com पर क्लिक करें ...)



सोमवार, 18 मई 2020

Humor : नेताओं ने कोरोना को दिया अल्टीमेटम, कहा- हम आत्मनिर्भर, तेरे जैसे वायरसों की यहां कोई जरूरत नहीं

aatma nirbhar jokes , आत्मनिर्भर जोक्स


हिंदी सटायर डेस्क। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आत्मनिर्भरता के मंत्र के बाद देश की सर्वदलीय नेता बिरादरी ने कोरोना वायरस को तत्काल देश छोड़ने का अल्टीमेटम दे दिया है। वाट्सएप पर भेजे गए इस अल्टीमेटम में कहा गया है कि वायरस के मामले में हम सालों से आत्मनिर्भर रहे हैं। इसलिए तेरी यहां कोई जरूरत नहीं है।

ऑल पार्टी नेता कॉर्डिनेशन कमेटी के प्रवक्ता ने हिंदी सटायर से बात करते हुए, 'आत्मनिर्भरता की हम अपनी ताकत को भूल गए थे। अच्छा हुए प्रधानमंत्रीजी ने हमें याद दिला दिया। हमारे जैसों के होते हुए हमें बाहर से वायरस बुलाना पड़े, इससे ज्यादा लज्जा की बात और कोई नहीं हो सकती। इसलिए हमने तुरंत कोरोना वायरस को देश छोड़ने का अल्टीमेटम दे दिया है।'

इससे पहले कॉर्डिनेशन कमेटी की मीटिंग में एक संकल्प पारित किया गया जिसमें कहा गया कि हम सभी नेता अपने वायरस-कत्तर्व्य का तन, मन और धन से पालन करेंगे, ताकि देश इस मामले में न केवल पूरी तरह से आत्मनिर्भर बन सके, बल्कि दूसरों देशों को भी हमारी आपूर्ति की जा सके।

#Political_Satire #humor 

सोमवार, 15 अक्तूबर 2018

Humor : फेक नेताओं पर बैन लगाने की मांग, जानिए इन्हें कैसे पहचानें?

fake political leaders funny political satire


हिंदी सटायर डेस्क। फेक न्यूज को लेकर चल रहे विवाद के बीच सभी राजनीतिक दलों ने एक स्वर में फेक नेताओं पर बैन लगाने की मांग की है। नेताओं की सर्वदलीय समिति ने इस संबंध में सरकार को एक पत्र भेजा है। इसमें समिति ने आशंका जताई है कि जैसे एक गंदी मछली सारे तालाब को गंदा कर देती है, उसी तरह ऐसे चुनिंदा फेक नेता भी राजनीति के पवित्र सागर को गंदा कर देंगे। इसलिए इन पर तुरंत प्रतिबंध लगाकर और उन्हें लात मारते हुए राजनीति से बाहर कर देना चाहिए।

फेक नेताओं के गिनाए कु-लक्षण
हिंदी सटायर को भी लीकेज में इस पत्र की एक कॉपी हाथ लगी है। इस पत्र में फेक नेताओं के 5 कु-लक्षण बताए गए हैं। हम अपने रीडर्स के लिए भी 5 कु-लक्षण बता रहे हैं ताकि वे सतर्क रहें और ऐसे कु-लक्षण वाले नेताओं को देखते हुए उन्हें लात मारकर भगा सकें।

कु-लक्षण 1 : जैसी कथनी, वैसी करनी
ये वे होते हैं, जो जैसा बोलते हैं, वैसा करते हैं। इनकी कथनी और करनी में कोई अंतर नहीं होता। ये ईमानदारी की न केवल बात करते हैं, बल्कि खुद ईमानदार भी होते हैं।

कु-लक्षण 2 : धर्म और जातिवाद से परे
ये नेता वोट लेने के लिए न धर्म का सहारा लेते हैं और न जाति का। इन्हें अक्सर चुनाव का टिकट भी नहीं मिलता। गाहे-बगाहे अगर टिकट मिलता भी है तो जीतते नहीं हैं। मौजूदा राजनीति के लिए ये सबसे घातक हैं।

कु-लक्षण 3 : भाई-भतीजावाद पर भरोसा नहीं
ये नेता समाज सेवा की इच्छा से राजनीति करते हैं। ये न अपने बेटे-बेटियों को आगे बढ़ाते हैं, न अपने रिश्तेदारों को। अपने उत्तराधिकारी का चयन मेरिट के आधार पर करते हैं।

कु-लक्षण 4 : कमीशनखोरी से परहेज
ये इन नेताओं का सबसे बड़ा कु-लक्षण है। ये कमीशनखोरी से परहेज कर नेतागिरी के पावन उद्देश्य को ही डिफिट कर देते हैं। ऐसे नेता न केवल खुद के, बल्कि पूरी भारतीय राजनीति पर कलंक के समान होते हैं।

कु-लक्षण 5 : संस्कार पैदाइशी इनबिल्ट
ऐसे फेक नेताओं के मुंह पर अपने विरोधियों के लिए भी सम्मान का भाव रहता है। ये कोई गाली-गलौज नहीं करते। संस्कार नामक अवगुण इनमें पैदाइशी इनबिल्ट होता।

सरकार ने पूछा, ऐसे नेता हैं कहां?
नेताओं की सर्वदलीय समिति के पत्र के जवाब में सरकार ने पूछा है कि ऐसे नेता हैं कहां? सरकार ने कहा कि हमें तो ये न किसी सरकार में नजर आते हैं, न किसी पार्टी में प्रमुख पदों पर। अगर दो-चार कहीं होंगे भी इधर-उधर कोने में पड़े होंगे। हमें इसकी चिंता में दुबले नहीं होकर राष्ट्रहित में जुटे रहना चाहिए।

(और भी मजेदार खबरी व्यंग्य पढ़ने के लिए हिंदी खबरी व्यंग्यों पर भारत के पहले पोर्टल hindisatire.com पर क्लिक करें ...)

गुरुवार, 30 अगस्त 2018

Humor : कौन लिखता है राहुल गांधी के भाषण? जांच में हुआ खुलासा

rahul gandhi jokes with folding hand


By Jayjeet

हिंदी सटायर डेस्क। यह सवाल पिछले कई दिनों से पूछा जा रहा था कि आखिर राहुल गांधी के भाषण लिखता कौन है? अर्णब गोस्वामी ने भी पिछले दिनों यह कहकर पूरे देश में माहौल गर्म कर दिया था कि ‘नेशन वांट्स टू नो हू राइट्स फॉर द राहुल’। अर्णब के इस सवाल के बाद से ही सरकार भारी दबाव में थी। आखिरकार सरकार ने पता लगा ही लिया कि राहुल के भाषण कौन लिखता है। इसके लिए जांच एजेंसी सीबीआई तक की मदद ली गई।

उच्च पदस्थ सूत्रों ने बताया कि राहुल गांधी खुद ही अपने भाषण लिखते हैं। इसका खुलासा तब हुआ, जब सरकार के मौखिक आदेश पर सीबीआई ने राहुल के भाषण लिखने के तीन संदिग्ध आरोपियों को पकड़ा। ये तीनों पिछले कई दिनों से सोशल मीडिया पर जोक्स पोस्ट किए जा रहे थे। लेकिन सीबीआई की कस्टडी में इन्होंने स्वर्गीय जसपाल भट्टी की कसम खाकर कहा कि उनके इत्ते बुरे दिन नहीं आए। वे राहुल के लिए भाषण लिख ही नहीं सकते। राहुल खुद अपने भाषण लिखते हैं।


सीबीआई के एक वरिष्ठ अफसर ने हिंदी सटायर से कहा, “हम भी निरे मूर्ख निकले। हमने यह क्यों नहीं सोचा कि राहुल खुद भी तो अपने भाषण लिख सकते हैं। और जिस तरह के भाषण वे पढ़ रहे हैं, उससे तो हमें पहले ही यकीन हो जाना चाहिए था कि अपने भाषण खुद राहुल ही लिख रहे होंगे।”

पीडी ने भी पुष्टि की :
राहुल अपने भाषण खुद लिखते हैं, इसकी पुष्टि करने के लिए सीबीआई ने कल रात तो पीडी (राहुल के पालतू डॉगी) से भी एक घंटे तक पूछताछ की। पीडी का नाम तब सुर्खियों में आया था जब राहुल ने कहा था कि पीडी ही उनके ट्विट्स पोस्ट करता है। एक घंटे की पूछताछ में पीडी ने कहा कि राहुल भैया के जोरदार भाषण दो ही लोग तैयार कर सकते हैं – या तो मैं या राहुल भैया खुद। मैं कर नहीं रहा हूं तो समझ जाइए कि कौन तैयार कर रहा है।

#rahul_gandhi #rahul_jokes #political_satire #satire #humor

(और भी मजेदार खबरी व्यंग्य पढ़ने के लिए हिंदी खबरी व्यंग्यों पर भारत के पहले पोर्टल hindisatire.com पर क्लिक करें ...)



शनिवार, 25 अगस्त 2018

Humor : अय्यर की कांग्रेस में वापसी से राहुल ने ली राहत की सांस, पर सिद्धू हुए नाराज

rahul with Iyer joke humour satire
कांग्रेस की केंद्रीय अनुशासन समिति के फैसले का स्वागत करते अय्यर व राहुल।

हिंदी सटायर डेस्क। कांग्रेस में मणिशंकर अय्यर की वापसी से राहुल गांधी ने राहत की सांस ली है। उन्हाेंने अपने कुछ करीबियों को धीरे से आंख मारकर कहा – अब मैं कांग्रेस को हरवाने की जिम्मेदारी से मुक्त होकर कुछ दिनों के लिए नानी के घर जा सकूंगा। वहीं, नवजोत सिंह सिद्धू ने इस बात पर नाराजगी जताई है कि अगर अय्यरजी को वापस ही लाना था तो फिर मेरे द्वारा पाक सेनाध्यक्ष को गले लगाने का क्या मतलब निकला।

दिसंबर 2017 में कांग्रेस ने मणिशंकर अय्यर को नरेंद्र मोदी को कथित तौर पर ‘नीच’ कहने पर निलंबित कर दिया था। इसके बाद कांग्रेस ने मणिशंकर की जिम्मेदारी शशि थरूर को सौंप दी थी। थरूर ने भी आते ही अपनी जिम्मेदारी का एहसास दिलाने के लिए कहा था कि अगर 2019 में बीजेपी लोकसभा चुनाव जीतने में कामयाब होती है तो देश ‘हिंदू पाकिस्तान’ बन जाएगा।

सिद्धू हुए नाराज :

 कांग्रेस अनुशासन समिति के इस फैसले से सिद्धू काफी नाराज बताए जाते हैं और पाकिस्तान से लौटने के बाद से ही लगातार गुस्से में खुद ही ताली ठोंके जा रहे हैं। उनके एक करीबी ने समझाया भी कि खुद ताली मत ठोंको, नहीं तो लोगों को लगेगा कि कपिल का शो बंद होने के बाद पाजी ने कोई और काम शुरू कर दिया है।

इस पर सिद्धू ने फिर ताली ठोंकते हुए कहा, “गुरु, ये तो गलत बात है। पहले ही बता देते कि अय्यरजी की वापसी हो रही है तो मैं पाकिस्तान आर्मी चीफ के गले तो नहीं लगता। मैं तो पाकिस्तान गया ही इसलिए था कि अय्यरजी की जगह ले सकूं। अब मैं न इधर का रहा, न उधर का। इसीलिए तो तालियां ठोंके जा रहा हूं…। तुम भी ठोंको ताली, काम ही क्या बचा अब स्साला ..।”

#rahulgandhi #jokes_on_rahul_gandhi #political_satire #humor

(और भी मजेदार खबरी व्यंग्य पढ़ने के लिए हिंदी खबरी व्यंग्यों पर भारत के पहले पोर्टल hindisatire.com पर क्लिक करें ...)



बुधवार, 20 दिसंबर 2017

Funny : राहुल के कांग्रेस का अध्यक्ष बनने से बदल जाएंगी ये 5 चीजें, आप भी जानिए


By A. Jayjeet

नई दिल्ली। राहुल गांधी ने शनिवार को कांग्रेस अध्यक्ष का कार्यभार संभाल लिया। इसके साथ ही कांग्रेस में राहुल युग की शुरुआत हो गई। ह्यूमर वर्ल्ड के राजनीतिक विश्लेषक बेचैन ढींगामस्ती ने अपना विश्लेषण कर बताया कि राहुल के आने के बाद कांग्रेस में क्या 5 चीजें बदल जाएंगी। आप भी पढ़िए :

1. कांग्रेस पिछले 19 साल से जिन पादुकाओं को पूजते आए थे, उनका आकार बदल जाएगा। सोनिया गांधी 7 नंबर की पादुका पहनती हैं। राहुल गांधी 8 नंबर की पादुका पहनते हैं। तो इस तरह पादुका का एक नंबर बढ़ जाएगा। कांग्रेसियों को पादुका और भी स्पष्ट नजर आएगी। ताे पूजा करने में और भी आसानी रहेगी।

2. पहले नियम था – ‘अगर कांग्रेस कोई भी चुनाव जीतेगी को उसका श्रेय सोनिया गांधी और राहुल गांधी को दिया जाएगा, हार का श्रेय अन्य नेताओं व सामान्य कार्यकर्ताओं को।’ अब नियम बदलकर इस तरह हो जाएगा – ‘अगर कांग्रेस कोई भी चुनाव जीतेगी को उसका श्रेय राहुल गांधी और सोनिया गांधी को दिया जाएगा, हार का श्रेय अन्य नेताओं व सामान्य कार्यकर्ताओं को।’

3. राहुल गांधी अब युवा से वरिष्ठ नेता बन जाएंगे। कांग्रेस के संविधान के तहत एक नियम पारित होगा जिसके अनुसार राहुल को अब ‘राहुल भैया’ की जगह ‘राहुल अंकल’ कहा जाएगा।

4. उन्नीस साल पहले सोनिया गांधी के कांग्रेस अध्यक्ष बनने के बाद कांग्रेस के संविधान में ‘चम्मच’ शब्द को ‘स्पून’ किया गया था क्योंकि उन्हें ‘चम्मच’ को प्रोनाउंस करने में दिक्कत होती थी। अब राहुल के हिंदी में कंफर्टेबल होने के कारण ‘स्पून’ को फिर से ‘चम्मच’ कर दिया जाएगा।

5. कांग्रेस में ‘राहुल ब्रिगेड’ का नाम बदलकर ‘राहुल फायर ब्रिगेड’ रख दिया जाएगा। यह ब्रिगेड बीजेपियों द्वारा लगाई गई आग को देशभर में घूम-घूमकर बुझाने का काम करेगी।

#congress #satire_congress #rahul_funny #sonia_gandhi

(और भी मजेदार खबरी व्यंग्य पढ़ने के लिए हिंदी खबरी व्यंग्यों पर भारत के पहले पोर्टल hindisatire.com पर क्लिक करें ...)


रविवार, 10 दिसंबर 2017

Humor : मणिशंकर को कांग्रेस ने पार्टी से निकाला, फूट-फूटकर रो रहे हैं अमित शाह

mani shankar said modi Neech


By A. Jayjeet

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद मोदी को ‘नीच’ कहकर उनका अपमान करने वाले मणिशंकर अय्यर को कांग्रेस ने पार्टी से बाहर क्या निकाला, बीजेपी की सांसें फूल गई हैं। बताया जा रहा है कि पार्टी अध्यक्ष अमित शाह तो कल रात से ही रोए जा रहे हैं। मोदी भी उन्हें ढांढस बनाने पहुंचे और कहा कि कोई बात नहीं, हम दूसरा ‘मणिशंकर’ ढूंढ लेंगे।

कांग्रेस के (पूर्व) फ्रीलांसर नेता मणिशंकर (Mani-Shankar) ने गुरुवार को प्रधानमंत्री के बारे में कहा था, ‘यह आदमी नीच किस्म का है। इसमें सभ्यता नहीं है।’ मणिशंकर अय्यर की जुबान पर गोपनीय रूप से सेंसर लगाए बैठी बीजेपी की आईटी टीम तक जैसे ही ये शब्द पहुंचे, उन्होंने इन्हें अमित शाह तक ट्रांसफर कर दिया। सूत्र ने बताया कि अमितजी ये सुनते ही उछल पड़े। मन ही मन बड़बड़ाए- वाह बेटा, क्या गोल मारा! फिर उन्होंने सूरत में सभा करने जा रहे मोदी को फोन लगाकर कहा – नरेंद्र भाई, अय्यर फिर फूट पड़ा है। इसके बाद उन्होंने मोदी को अय्यर का वह पूरा बयान सुनाया। उधर से मोदीजी का जवाब आया- वेल डन। लगे रहो अमित भाई।

ज्यादा अंडों के चक्कर मुर्गी ही मार डाली…
Mani-Shankar के इस बयान पर मोदी सहित बीजेपी ने इतनी हाय-तौबा मचाई कि कांग्रेस बैकफुट पर आ गई। राहुल गांधी ने पहले मणिशंकर अय्यर को माफी मांगने को कहा। फिर बाद में देर रात को उन्हें पार्टी से निकाल दिया। अय्यर को कांग्रेस से बाहर निकाले जाने की खबर जैसे ही बीजेपी को मिली, पार्टी की जान हलक में आ गई। अमित शाह तो जैसे सदमे में चले गए। पार्टी दफ्तर में जाकर पहले धीरे-धीरे और फिर फूट-फूटकर रोने लगे। बार-बार एक ही बात बोले जा रहे थे- हाय, हमने ये क्या कर  डाला। सोने के ज्यादा अंडोें के लालच में पूरी मुर्गी ही हलाक करवा दी। अब अगले चुनाव कैसे जीतेंगे?

मोदी भी तुरंत बीजेपी ऑफिस पहुंचे, अमित शाह को ढांढस बंधाया…
अमित शाह के इस तरह सदमे में पहुंचने की खबर मिलते ही मोदी भी देर रात को ही पार्टी दफ्तर पहुंचे। उन्होंंने अमित शाह का मन हलका करने के लिए कहा कि गलती मेरी ही है। मैंने ही जबरदस्ती मामले तो ज्यादा तूल दे दिया। अमित शाह फिर भी नहीं रुके तो मोदी ने कहा, “चुप हो जा अमित, मैं खुद कांग्रेस के पास जाकर माफी मांग लूंगा और उनसे कहूंगा कि गलती किससे नहीं होती। हमसे भी हो गई। वे मणिशंकर को वापस रख लेंगे।” फिर उत्साह बढ़ाते हुए कहा, “और वापस नहीं लिया तो भी कोई बात नहीं। हम कांग्रेस में ही कोई दूसरा मणिशंकर ढूंढ लेंगे। वहां कोई कमी है क्या?”

#ManiShankar #AmitShah #Political_satire #satire #Humor

(और भी मजेदार खबरी व्यंग्य पढ़ने के लिए हिंदी खबरी व्यंग्यों पर भारत के पहले पोर्टल hindisatire.com पर क्लिक करें ...)

शुक्रवार, 24 नवंबर 2017

Funny : कांग्रेस में राष्ट्रीय अध्यक्ष का चुनाव : हर कांग्रेसी से पूछे जाएंगे ये 5 सवाल

rahul gandhi funny


By Jayjeet
नई दिल्ली। कांग्रेस के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष चुने जाने की प्रक्रिया शुरू हो गई है। कांग्रेस ने दावा किया है कि हम राहुलजी को पूरे लोकतांत्रिक तरीके से चुनकर अपने उन आलोचकों को मुंहतोड़ जवाब देंगे, जो पार्टी पर वंशवाद का आरोप लगाते आए हैं।

कांग्रेस कार्यसमिति ने सोमवार की देर रात को चुनाव कार्यक्रम की मंजूरी दी थी। इसका मकसद राहुल गांधी की ताजपोशी करना है। लेकिन कांग्रेस ने भाजपा के वंशवाद संबंधी आरोपों का अच्छे से जवाब देने की तैयारी भी कर ली है। इसलिए कांग्रेस कार्यसमिति ने चुनावों को लोकतांत्रिक बनाने के लिए कोई कोर-कसर बाकी नहीं छोड़ी है।


ये रहे वे 5 सवाल :
कांग्रेस कार्यसमिति ने चुनावों को लोकतांत्रिक स्वरूप देने के लिए एक स्पेशल फॉर्म छपवाया है। हर सदस्य को इसमें अपने मन से राय देने की स्वतंत्रता रहेगी। इसमें कांग्रेस हाईकमान का कोई दबाव नहीं रहेगा। पार्टी का दावा है कि दुनिया में किसी भी अध्यक्ष के चुनाव से पहले इतनी लोकतांत्रिक प्रक्रिया किसी ने नहीं अपनाई होगी। hindisatire ने अपने सोर्सेस से इस फॉर्म की एक कॉपी जुगाड़ी है जो हम रीडर्स के सामने में भी पेश कर रहे हैं।

फॉर्म में इन 5 सवालों पर कांग्रेसियों से राय मांगी जाएगी :

1. राहुलजी के नेतृत्व में आप कितना विश्वास करते हैं?
A .100 फीसदी
B. 100 परसेंट

2. क्या आपको लगता है कि राहुलजी की लीडरशिप में कांग्रेस आगे बढ़ेगी?
A . हां, बिल्कुल। कोई शक?
B. जी, जरूर। बेशक।

3. कांग्रेस का अध्यक्ष चुने जाने के बाद भी क्या आप राहुलजी के नाम के आगे “बाबा” संबोधन चाहते हैं?
A. जैसा राहुलजी चाहें
B. राहुलजी जैसा चाहें

4. राहुलजी के अध्यक्ष बनने के बाद आगामी चुनावों में हार के लिए जिम्मेदार कौन होगा?
A. मैं यानी आम कांग्रेसी
B. आम मतदाता

5. राहुलजी के अध्यक्ष बनने के बाद उनके प्रिय पिडीजी से आप क्या चाहेंगे?
A. दुम हिलाने की ट्रेनिंग
B. तलवे चाटने की ट्रेनिंग

#rahul_gandhi #congress_president #congress_election

(और भी मजेदार खबरी व्यंग्य पढ़ने के लिए हिंदी खबरी व्यंग्यों पर भारत के पहले पोर्टल hindisatire.com पर क्लिक करें ...)






मंगलवार, 26 सितंबर 2017

Satire : अमेरिका से भारत लौटे राहुल, कांग्रेसियों और भाजपाइयों दोनों की आंखों में आंसू


rahul gandhi funny photo राहुल गांधी फनी फोटो

नई दिल्ली। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी अमेरिका की 14 दिन की यात्रा से वापस इंडिया लौट आए हैं। लेकिन उनके लौटने पर कांग्रेस और भाजपा दोनों ही पार्टियों के तमाम नेताओं की आंसों में आंसू नजर आ रहे हैं।

जम्मू-कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक तमाम कांग्रेसी नेता एक स्वर में जोर-जोर से कह रहे हैं, “ये गम के आंसू बिल्कुल नहीं हैं। राहुलजी के लौटने की खुशी में हमारी आंखें भर आईं।”

इस पर भाजपा के प्रवक्ता सांबित पात्रा ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा, “सारे कांग्रेसी साफ झूठ बोल रहे हैं। ये गम के आंसू हैं। अब उन्हें इस बात की चिंता सता रही हैं कि राहुल बाबा के आने से गुजरात का क्या होगा?” गौरतलब है कि अगले तीन माह में गुजरात में विधानसभा चुनाव होने हैं और 25 सितंबर को राहुल वहां चुनाव प्रचार का आगाज करेंगे।

सांबित से यह पूछे जाने पर कि आपकी खुद की आंखों में आंसू क्यों हैं, उन्होंने अपनी खुशी छिपाते हुए और अपने लड्‌डू भरे हाथों से आंसू पोंछते हुए कहा, “ये तो बस यूं ही। राहुलजी के लौटने से हमें भी तो खुशी है।”

#rahul_gandhi_jokes #Congress #satire #humor

(और भी मजेदार खबरी व्यंग्य पढ़ने के लिए हिंदी खबरी व्यंग्यों पर भारत के पहले पोर्टल hindisatire.com पर क्लिक करें ...)

रविवार, 20 अगस्त 2017

Satire : राहुल को अध्यक्ष बनवाने के लिए अमित शाह ने कसी कमर


rahul gandhi with amit shah  राहुल गांधी अमित शाह व्यंग्य

नई दिल्ली/भोपाल। अगले लोकसभा चुनावों में भाजपा के मिशन 360 (Bjp Mission 2019) पर भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने अभी से काम करना शुरू कर दिया है। इसके तहत वे अगले तीन महीनों के दौरान देशभर का दौरा कर राहुल गांधी को कांग्रेस अध्यक्ष बनवाने के लिए जी-जोड़ लॉबिंग करेंगे।

तीन दिवसीय दौरे पर भोपाल पहुंचे अमित शाह के इस गेम प्लान का खुलासा hindisatire ने किया है। शाह के एक करीबी सूत्र की मानें तो उन्होंने तीन माह का राष्ट्रव्यापी कार्यक्रम इसीलिए बनाया है ताकि जल्दी से जल्दी कांग्रेस राहुल के हाथों में दी जा सके। अमित शाह का स्पष्ट मानना है कि इसके बगैर भाजपा का 360 सीटें जीतने का टारगेट पूरा नहीं किया जा सकता।

दोपहर में भाजपा की मीटिंग, असली काम रात को …
सूत्र के अनुसार अमित शाह दोपहर में भाजपा नेताओं और मंत्रियों की बैठकें लेते हैं, लेकिन ये सब दिखावे के लिए होता है। उनका असली काम रात को शुरू होता है। वे रात को भेष बदलकर कांग्रेसियों से मिलते हैं और उन्हें यह समझाने की कोशिश करते हैं कि राहुल गांधी का कांग्रेस अध्यक्ष बनना देशहित में क्यों जरूरी है (भाजपाई पढ़ें - भाजपा हित)।

‘राहुल लाओ, देश बचाओ’ कैम्पेन भी शुरू करवाने का प्लान…
कांग्रेसियों को इमोशनल ब्लैकमेल करने के मकसद से भाजपा अध्यक्ष “राहुल लाओ देश बचाओ” नाम से एक कैम्पेन भी शुरू करवाने की प्लानिंग कर रहे हैं। हालांकि इसे कांग्रेसियों द्वारा ही शुरू करवाएंगे, लेकिन इसके लिए फंडिंग का काम भाजपा करेगी। भाजपा के शीर्ष नेतृत्व को विश्वास है कि इस कैम्पेन से देश बचे या न बचे, मोदीजी फिर से दूसरी बार सत्ता में जरूर आ जाएंगे, वह भी बड़ी आसानी से।

गुरुवार, 2 मार्च 2017

Humor : कटप्पा की तलाश में निकले UP के बाहुबली, अफवाह फैलाने से नाराज

katappa कटप्पा बाहुबलि


By Jayjeet

लखनऊ। यूपी के बाहुबली इन दिनों कटप्पा की तलाश में हैं। वे उसे पकड़कर जानना चाहते हैं कि आखिर यह अफवाह फैलाने की हिम्मत कैसे कर ली कि उसने बाहुबली को मारा है। सभी राजनीतिक दल भी इसे राज्य की अस्मिता से जुड़ा मुद्दा मानकर इस मामले में बाहुबलियों को मॉरल सपोर्ट दे रहे हैं।

बाहुबलियों के खेमों से आ रही खबरों के अनुसार चुनाव के इस मौसम में लोगों के दिमाग से जाले साफ करना जरूरी है कि कोई बाहुबली नहीं मरा है। सब के सब जिंदा हैं। एक बाहुबली के प्रवक्ता ने यूएस मेड पिस्टल जेब में रखते हुए कहा, “भाई जान अब तक चुप बैठे थे तो इसका मतलब यह नहीं कि कोई कुछ भी बके जाए और हम सुनते रहे। कोई बाहुबली को नहीं मार सकता। उस BIP BIP कटप्पा की क्या औकात। उसकी तो ###%%&$$$…, उसे बताते हैं हम…”

बाहुबली के मुद्दे पर सभी पार्टिंयां एकमत :


बाहुबली के मामले में सभी पार्टियों की एक राय हैं। सभी का कहना है कि बाहुबली वाला इश्यू उत्तरप्रदेश की अस्मिता से जुड़ा एक अहम मुद्दा है। ऐसे में कटप्पा को ढूंढने के मामले में हमारा मॉरल सपोर्ट बाहुबलियों को मिलता रहेगा। सभी पार्टियां यह वादा भी कर रही हैं कि उनके सत्ता में आने पर वे बाहुबली को मारने जैसी गिरी हुई अफवाह फैलाने के मामले की CBI से जांच भी करवाएंगी।

कटप्पा ने मांगी चंद्रबाबू से सुरक्षा :
इस बीच, बाहुबलियों की इस गर्जना के बाद से ही कटप्पा भूमिगत बताए जा रहे हैं। उन्होंने आंधप्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू से उन्हें सुरक्षा मुहैया करवाने का अनुरोध किया है। कटप्पा ने एक E-mail करके कहा, “उप्र के बाहुबलियों के बारे में पहले मुझे किसी ने कुछ नहीं बताया। मैं तो राजमौली की बातों में आ गया। अब आप ही बाहुबलियों के साथ चर्चा करके बीच का रास्ता निकालिए और मुझे बचाइए। मैं गरीब बेमतलब में मारा जाऊंगा। ”

#UP_politics #bahubali #satire #humor

(और भी मजेदार खबरी व्यंग्य पढ़ने के लिए हिंदी खबरी व्यंग्यों पर भारत के पहले पोर्टल hindisatire.com पर क्लिक करें ...)

रविवार, 15 जनवरी 2017

Humor : जमानत बचाने में समर्थ लोगों को ही टिकट देगी Congress, पार्टी ने की 10 सीटों की पहचान

congress-rahul


नई दिल्ली/लखनऊ। उप्र में उम्मीदवारों के चयन को लेकर congress ने भी तैयारियां शुरू कर दी है। पार्टी हाईकमान ने साफ कर दिया है कि वह केवल उन्हीं लोगों को टिकट देगी जो अपने दम पर जमानत बचाने में सक्षम होंगे।

कांग्रेस से जुड़े सूत्रों के अनुसार पार्टी ने एेसी सीटों की तलाश शुरू कर दी है जहां उसके उम्मीदवार आसानी से जमानत बचा सकें। पार्टी ने हाल ही में एक सर्वे करवाया है जिसके अनुसार राज्य में पार्टी के पास अब भी ऐसी 10 सीटें हैं जहां उसके उम्मीदवार आसानी से जमानत बचा सकते हैं। इस सर्वे ने पार्टी कार्यकर्ताओं में नई जान फूंक दी है।

सूत्रों के अनुसार पिछले सप्ताह अखिलेश यादव से मुलाकात के दौरान भी पार्टी के रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने साफ कर दिया था कि गठबंधन की स्थिति में पार्टी इन 10 सीटों पर कोई कॉम्प्रोमाइज नहीं करेगी। यहां पर वे अपने उम्मीदवार जरूरत उतारेगी।

इस बीच, प्रशांत किशोर ने पार्टी आलाकमान से यह सुनिश्चित करने को कहा है कि इन सीटों पर राहुल गांधी प्रचार करने नहीं आएं। अगर आते हैं तो फिर जमानत बचाने की वे कोई गारंटी नहीं ले पाएंगे।

#congress #up_election #satire #jokes #rahul #humor

(और भी मजेदार खबरी व्यंग्य पढ़ने के लिए हिंदी खबरी व्यंग्यों पर भारत के पहले पोर्टल hindisatire.com पर क्लिक करें ...)

गुरुवार, 5 जनवरी 2017

Humor : धर्म-जाति के नाम पर नहीं मांग सकेंगे वोट, उप्र में गहराया संवैधानिक संकट, चुनाव स्थगित करने की मांग


political rally चुनावी रैली

By Jayjeet

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट के इस निर्देश के बाद कि चुनावों में धर्म, भाषा या जाति के नाम पर वोट नहीं मांग सकते, उप्र में संवैधानिक संकट गहराने की आशंका पैदा हो गई है। इसके मद्देनजर सभी राजनीतिक दलों ने पार्टी लाइन से ऊपर उठकर एक स्वर में चुनाव आयोग से आगामी विधानसभा चुनाव अनिश्चितकाल तक के लिए स्थगित करने की मांग की है।

सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर प्रतिक्रिया देते हुए अपने लिखे हुए बयान में बहनजी ने कहा- “लगता है कोर्ट में पढ़े-लिखे लोगों की कमी हो गई है। तभी ऐसे फैसले सुनाए जा रहे हैं। हम जाति और धर्म के नाम पर वोट नहीं मांगेंगे तो क्या रोड और पानी के नाम पर मांगेंगे?”

जिंदगी में पहली बार बहनजी की बातों से सहमत होते हुए नेताजी ने भी कहा -“सई भात है, भैं भी यई #@#$%%%% ?” (सही बात है। मेरा भी यही कहना है कि ऐसे चुनाव लड़ने का क्या मतलब?)। हालांकि उन्होंने कहा कि वे भाषा के मामले में सुप्रीम कोर्ट के साथ हैं। किसी को भी भाषा के नाम पर वोट नहीं मांगने चाहिए।

लगातार हंसे जा रहे हैं साक्षी और ओवैसी :
इस बीच, खबर आ रही है कि सुप्रीम कोर्ट के इस निर्देश के बाद से ही साक्षी महाराज और ओवैसी लगातार हंसे जा रहे हैं। उनकी हंसी रुकने का नाम ही नहीं ले रही।  दोनों एक-दूसरे के हाथों पर तालियां ठोक-ठोककर हंसे जा रहे हैं।

#political #satire #UPPolitics #humor

(और भी मजेदार खबरी व्यंग्य पढ़ने के लिए हिंदी खबरी व्यंग्यों पर भारत के पहले पोर्टल hindisatire.com पर क्लिक करें ...)

मंगलवार, 6 सितंबर 2016

Humor : पाक को घेरने मोदी का एक और दांव, धमकाया- कश्मीर पर छोड़ें दावा, नहीं तो वाड्रा को बलूचिस्तान भेज देंगे


modi and robert vadra मोदी पर व्यंग्य राबर्ट वाड्रा पर व्यंग्य
मोदी के ट्वीट करते ही वाड्रा एयरपोर्ट पर पहुंच गए। कहा- I am Ready, Boss!

नई दिल्ली/इस्लामाबाद। पाकिस्तान को घेरने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक और दांव चल दिया है। उन्होंने धमकाया है कि अगर पाकिस्तान कश्मीर में अलगाववादियों को समर्थन देना बंद नहीं करेगा तो वे रॉबर्ट वाड्रा को बलूचिस्तान भिजवा देंगे। मोदी की इस धमकी से समूचे पाकिस्तान में हड़कंप मच गया है। पाकिस्तान, कश्मीर पर अपना दावा छोड़ने पर भी विचार कर रहा है ताकि बलूचिस्तान की बेशकीमती जमीन को बचा सके। इस बीच, वाड्रा ने मोदी के इस बयान का स्वागत किया है।

मोदी ने यहां रविवार को ट्वीट कर कहा, “हमारा पड़ोसी कश्मीर में अपनी नापाक हरकतों से बाज नहीं आ रहा। यदि वह अब भी नहीं रुका तो हमारे पास वाड्रा को बलूचिस्तान भिजवाने के अलावा और कोई चारा नहीं रहेगा।

पाकिस्तान में हड़कंप, छोड़ सकता है कश्मीर पर दावा :

 मोदी की यह रणनीति काम कर रही है। उनके इस बयान के तत्काल बाद पाक प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने अपने कैबिनेट के वरिष्ठ मंत्रियों, सेना के आला अधिकारियों और जेहादी संगठनों के सीनियर आतंकियों के साथ बंद कमरे में बातचीत की। सब इस बात से भयभीत थे कि अगर वाड्रा को बलूचिस्तान में ड्रॉप कर दिया गया तो पूरा प्रोविंस हमारे हाथ से चला जाएगा। इतना ही नहीं, पड़ोसी सिंध पर भी संकट आ सकता है।

सूत्र के अनुसार नवाज ने बैठक में कहा, “हमें मजबूरी में ही सही, कश्मीर की अपनी लड़ाई छोड़नी पड़ेगी।” इस पर मीटिंग में मौजूद सेना के आला अफसरों और सीनियर आतंकियों ने भी सहमति जताई लेकिन उन्होंने शरीफ से यह भी कहा कि हमें 100 रुपए के स्टाम्प पेपर पर साफ शब्दों में यह लिखवा लेना चाहिए कि भारत सरकार अगले 100 साल तक वाड्रा को पाकिस्तान की ओर मुंह भी नहीं करने देगी। शरीफ ने इस पर कहा कि मैं जिनपिंग भाईजान से बात करके यह डील पक्की करने की व्यवस्था करता हूं।

बलूच नेता भी भयभीत :
मोदी के इस ट्वीट के बाद बलूच नेता भी भयभीत हो गए हैं। बलूचों के सरदार ब्रहुमदाग बुगती ने कहा, “हम मोदीजी का सम्मान करते हैं, लेकिन अपनी समस्या सुलझाने के लिए वे ऐसा नहीं कर सकते। हम भी तो अपनी जमीन के लिए लड़ रहे हैं। वाड्रा यहां आ गया तो हमारे पास क्या रहेगा? बाबाजी का ठुल्लू!”

वाड्रा ने किया स्वागत :
मोदी के इस ट्वीट को रिट्वीट करते हुए वाड्रा ने लिखा- “Thanks, Modiji.” उन्होंने आगे लिखा, “यह पहली बार है जब आपने मुझ पर निशाना न साधते हुए मेरे टैलेंट का सम्मान किया है।”

#modi #satire #vadra

(और भी मजेदार खबरी व्यंग्य पढ़ने के लिए हिंदी खबरी व्यंग्यों पर भारत के पहले पोर्टल hindisatire.com पर क्लिक करें ...)