मंगलवार, 3 जून 2014

पैदा होते ही बच्चे ने की पीएचडी


अभी तो केवल पीएचडी की है!

जयजीत अकलेचा/ Jayjeet Aklecha

नई दिल्ली। राजधानी में मंगलवार को एक बच्चे ने पैदा होने के चार घंटे के भीतर ही पीएचडी कर ली। देखते ही देखते यह खबर आग की तरह फैल गई। इस खबर के बाद कुछ दंपतियों ने डाॅक्टरों से कहा है कि वे ऐसा बच्चा चाहते हैं जो पैदा ही पीएचडी के साथ हो। शिक्षा क्षेत्र के विशेषज्ञों ने इसका श्रेय भारत में तेजी से विकसित होते एजूकेशन सिस्टम को दिया है।
यह बेबी राधेश्याम गुप्ता नामक दंपती के यहां हुआ है। उन्होंने इसका नाम पीएचडी कुमार रखा है। राधेश्याम ने बताया कि वे जल्दी ही अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी ‘नासा’ से संपर्क कर बच्चे को उनके दल में रखने का आग्रह करेंगे ताकि वह तीन साल की उम्र तक आते-आते नासा के नेपच्युन अभियान का हिस्सा बन सके।
पड़ोसियों के अनुसार श्री राधेश्याम पढ़़ाई के मामले में शुरू से ही अपने बच्चों का विशेष ख्याल रखते आए हैं। पड़ोसी माणिकराव ने बताया, ‘ श्री राधेश्यामजी के बारे में जितना कहे, उतना कम है। वे चाहते थे कि उनका पहला बेटा केजी-2 में सौ में से सौ प्रतिशत अंक लाए। इसके लिए उन्होंने तीन-तीन टीचरों को ट्यूशन पर रखा। और जब बच्चे के 99 फीसदी अंक आए तो उन्होंने बेटे को दो दिन तक खाना तक नहीं दिया। इसी का नतीजा रहा कि अगली क्लास में बच्चे के पूरे सौ फीसदी अंक आए।’
इसी तरह एक अन्य पड़ोसी श्रीमती कुमकुम शर्मा ने बताया कि गुप्ता परिवार की पूरी काॅलोनी में इज्जत है। हर कोई चाहता है कि बच्चे हो तो गुप्ताजी जैसे। वे सब के प्रेरक बन गए हैं। यही कारण है कि काॅलोनी के सभी लोगों ने अपने बच्चों के खेलने-कूदने पर प्रतिबंध लगा दिया है। अब सभी का एक ही मकसद है- 100 फीसदी अंक। कई नवविवाहित दंपती तो चाहते हैं कि उनके यहां बच्चे पीचएडी डिग्री या किसी मैनेजमेंट डिग्री के साथ ही पैदा हो।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Thanks for your comment